Allama iqbal shayari | Allama iqbal shayari in Hindi | Allama iqbal shayari in English

Allama iqbal shayari | Allama iqbal shayari in Hindi | Allama iqbal shayari in English

Hello Dosto Aaj ham log Baat Karne Wale Hain Allama Iqbal Shayari ke bare mein dost Jaisa ki aap sab log jante ho ki Allama Iqbal shayari in Hindi ko sab log padna Chahte Hain. Isliye main aap Logon se Leta Hoon Allama Iqbal shayari in English aur Hindi donon mein.

Doston Ummid Karta hun aap Logon Ko Allama Iqbal shayariAllama Iqbal shayari in HindiAllama Iqbal shayari in EnglishAllama Iqbal shayari in Urdu Pasand Aayi Hogi. Apna time Dene ke liye dhanyvad. 


Allama-iqbal-shayari
Allama iqbal shayari



Allama iqbal shayari

 ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले

ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

माना कि तेरी दीद के क़ाबिल नहीं हूँ मैं

तू मेरा शौक़ देख मिरा इंतज़ार देख

हज़ारों साल नर्गिस अपनी बे-नूरी पे रोती है

बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा-वर पैदा

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूं या रब

क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो

फ़क़त निगाह से होता है फ़ैसला दिल का

न हो निगाह में शोख़ी तो दिलबरी क्या है

Allama iqbal shayari in Hindi

सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा

हम बुलबुलें हैं इस की ये गुलसितां हमारा

ढूंढ़ता फिरता हूं मैं ‘इक़बाल’ अपने आप को

आप ही गोया मुसाफ़िर आप ही मंज़िल हूं मैं

मन की दौलत हाथ आती है तो फिर जाती नहीं

तन की दौलत छाँव है आता है धन जाता है धन

नशा पिला के गिराना तो सब को आता है

मज़ा तो तब है कि गिरतों को थाम ले साक़ी

दिल से जो बात निकलती है असर रखती है

पर नहीं ताक़त-ए-परवाज़ मगर रखती है

ये काएनात अभी ना-तमाम है शायद

कि आ रही है दमादम सदा-ए-कुन-फ़यकूँ

अनोखी वज़्अ’ है सारे ज़माने से निराले हैं

ये आशिक़ कौन सी बस्ती के या-रब रहने वाले हैं

Majburi Shayari 2021 | 100+ Majburi Shayari in Hindi | Majburi Quotes

कभी छोड़ी हुई मंज़िल भी याद आती है राही को

खटक सी है जो सीने में ग़म-ए-मंज़िल न बन जाए

वतन की फ़िक्र कर नादाँ मुसीबत आने वाली है

तिरी बर्बादियों के मशवरे हैं आसमानों में

सितारों से आगे जहाँ और भी हैं

अभी इश्क़ के इम्तिहाँ और भी हैं

तही ज़िंदगी से नहीं ये फ़ज़ाएँ

यहाँ सैकड़ों कारवाँ और भी हैं

तिरे इश्क़ की इंतिहा चाहता हूँ

मिरी सादगी देख क्या चाहता हूँ

ये जन्नत मुबारक रहे ज़ाहिदों को

कि मैं आप का सामना चाहता हूँ

ख़िर्द-मंदों से क्या पूछूँ कि मेरी इब्तिदा क्या है

कि मैं इस फ़िक्र में रहता हूँ मेरी इंतिहा क्या है

ख़ुदी को कर बुलंद इतना कि हर तक़दीर से पहले

ख़ुदा बंदे से ख़ुद पूछे बता तेरी रज़ा क्या है

Allama iqbal shayari in English

Amal se zindagi banti hai,
jannat bhi, jahannam bhi,
Ye khaki apni fitrat mein,
na noori hai na naari hai.

Dua to dil se mangi jati hai,
zubaan se nahi ae iqbal,
Qubool toh uski bhi hoti hai jiski zubaan nahi hoti.

Manzil se aage badh kar, manzil talash kar,
Mil jaye tujhko dariya, samundar talaash kar.
Har sheesha toot jaata hai pathar ki chot se,
Pathar hi toot jaye, wo sheesha talaash kar.

Masjid khuda ka ghar hai,
peene ki jagah nahi,
Kafir ke dil mein ja,
wahan khuda nahin.

Sone de agar wo so raha hai gulami ki neend mein,
Ho sakta hai wo khwab azaadi ka dekh raha ho.

 Hazaron saal nargis apni be-noori par roti hai,
Badi mushkil se hota hai,
chaman mein deedawar paida.

Hansi aati hai mujhe hasrat-e-insaan par,
Gunaah karta hai khud laanat bhejta hai shaitaan par.

Paerwane ko chirag hai bulbul ko phool bas,
Siddique ke liye hai khuda ka rasool bas.

Allama Iqbal shayari in Urdu

موتی سمجھ کر شانے کریمی نے چن لئے
قطرے جوتھے میرے عرق انفال کے
آنکھ کو بیدار کر دے وعدہ دیدار سے
زندہ کر دے دل کو سوز جوہر گفتار سے
خواہشیں بادشاہوں کو غلام بنا لیتی ہے
مگر صبر غلاموں کو بادشاہ بنا دیتا ہے
سجدوں کے عوض فردوس ملے یہ بات مجھے منظور نہیں
بے لوث عبادت کرتا ہوں بندہ ہوں تیرا مزدور نہیں
عمل سے زندگی بنتی ہے جنّت بھی جہنم بھی
یہ خاکی اپنی فطرت میں نہ نوری ہے نہ ناری ہے
ہو صداقت کے لیے جس دل میں مر نے کی تڑپ
پہلے اپنے پیکر میں جاں پیدا کرے
 آنکھ جو دیکتھی ہے لب پے آسکتا نہیں
محو حیرت ہوں کے دنیا کیا سے کیا ہو جائے گی

Conclusion:- Doston Ummid Karta hun aap Logon Ko Allama Iqbal shayari,  Allama Iqbal shayari in Hindi,  Allama Iqbal shayari in English,  Allama Iqbal shayari in Urdu Pasand Aayi Hogi. Apna time Dene ke liye dhanyvad. 


Aap Logon Ko Allama Iqbal shayari kaisi lagi Hamen comment Karke bataen dhanyvad .


Leave a Comment