Gulab shayari in Hindi 2021 | गुलाब शायरी

 Gulab shayari in Hindi 2021 | गुलाब शायरी

Hello Dost AAj hum is blog me janne wale hai Gulab shayari ke bare me jo ki Gulab Aur Phul par based hai गुलाब शायरी banto ke bich banta hai aur apni Mahak ko Charo Aur Faila Deta hai .
KeyWords  ;- gulab shayari, gulab shayari Hindi, gulab shayari 2 lines hindi, गुलाब पर शेर
गुलाब और कांटे शायरी, फूल है गुलाब का तोड़ नहीं सकते शायरी, फूल है गुलाब का सुगंध लीजिए शायरी, फूल है गुलाब का तोड़ मत देना शायरी, गुलाब पर गजल, गुलाब पर ग़ज़ल, गुलाब quotes
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021
शोहरत जाम नाम मैं सब तेरे लिए छोड़ आया हूँ,
उस गुलाब के लिए मैं बागो से हर खूबसूरत फूल तोड़ लाया हूँ।
क्यों करूँ तेरी तुलना मैं किसी गुलाब से गुलाब भी गुमान में चमक उठता है तेरे नाम से।
तुम्हे कमल कह दूँ या गुलाब कह दूँ
तुम्हे अनदेखा अजूबा कह दूँ
या खूबसूरत ख़्वाब कह दूँ।
आज भी तेरे सिवाय किसी और की तरफ मोहोब्बत से देखा नहीं मैंने
सूख गया तेरा गुलाब मगर फेंका नहीं मैंने।
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021

मैं काँटों का वारिस तुम अफसर हो फूलों की
क्यों ना हम मिलकर खुद को गुलाब बना दें।
वो किताब भी मेरे लिए किसी खिताब से कम नहीं
जिसमे छुपाकर मैंने तेरा दिया हुआ गुलाब रखा है।
समझ नहीं आता की क्या तारीफ करूँ तुम्हारी,
तुम्हे गुलाब कहना भी गुलाबों की तारीफ है।
कर सकूं जो तुम्हारी खूबसूरती को बयान
ऐसे मेरी सूरत नहीं
बस इतना कह सकता हूँ
गुलाब भी बहुत देखे हैं
पर वो भी तुम्हारी आगे ख़ास खूबसूरत नहीं।
आ जाती है मुझे कभी-कभी तेरी याद खूबसूरत ख़्वाब देखकर,
कभी इस खूबसूरत दुनिया को देखकर कभी खूबसूरत गुलाब देखकर।
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021

Gulab ka phool shayari in Hindi 

गुलाब के आगे हर फूल फीका है
पर जिस गुलाब को तुम छू लो
वो गुलाब भी तुम्हारी खूबसूरती का गुलाम हो जाए।
आँखें तेरी शराब से कम नहीं
लब तेरे गुलाब से कम नहीं,
पागल हो जाते हैं तेरी एक झलक देख खुदा
कसम तू किसी ख़्वाब से काम नहीं।
अब गुलाब को गुलाब के लिए भेजूं तो क्या ही फायदा होगा,
शराब आप जैसे जाम के लिए भेजूं तो क्या ही फायदा होगा।
पहले सोचा की उसे तोहफे में गुलाब दूँ
फिर सोचा अब गुलाब को क्या ही गुलाब दूँ।
जो तेरी मोहोब्बत को पाने का पूरा मेरा ख़्वाब हो जाए,
महक जाए ये ज़िन्दगी खुदा कसम गुलाब हो जाए।
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021

हुस्न और खुश्बू का सबब हो तुम ,
ऐसा खिलता हुआ गुलाब हो तुम ,
तुम जैसा हसीन न होगा इस जहां मेरा
तमाम हसीनों में लाजवाब हो तुम ।
कांटो से घिरा रहता है ,
फिर भी गुलाब खिला रहता
किताब-ए-दर्द का सूखा हुआ गुलाब नही होना मुझे ।
पत्ती-पत्ती गुलाब बन जाती ,
हर कली मेरा ख्वाब बन जाती ,
अगर आप डाल देती अपनी महकदा नजरे इन पर ,
तो सुबह की ओस भी शराब बन जाती ।
मैने कब कहा मुझे गुलाब दे ,
या फिर मुहब्बत से नवाज दे ,
आज बुहत उदास है दिल मेरा ,
गैर बनके ही सही तू मुझे आवाज दे ।
गुलाब के फूल को हम कमल बना देते है ,
आपकी एक अदा पर कई गजल बना देते ,
आप ही हम पर मरती नही ,
वरना आपके घर के सामने ताजमहल बना देते ।
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021

गुलाब की खूबसूरती भी फीकी सी लगती है ,
जब तेरे चेहरे पर मुस्कान खिल उठती है ,
यूंही मुस्कुराते रहना मेरे प्यार ,
तू तेरी खुशियो से मेरी सांसे जी उठती है ।
मै तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती ,
मै जवाब बनता अगर तू सवाल होती ,
सब जानते है मै शराब नही पीता ,
मगर मै बी पी लेता अगर तू शराब होती ।
फूलो जैसी हंसी , वो गुलाब है ,
पढ़ने के लिए जरूरी किताब है ,
दुनिया में हर सवाल का जवाब है ,
अगर कोई मेरे बारे में पूछे तो कह देना ,
अरे वो तो लाजवाब है ।
अगर कुछ बनना है तो गुलाब के फूल बनो ,
क्योकि ये फूल उस के हाथ में भी खुश्बू छोड़ देती है ,
जो इसे मसल कर फेंक देता है ।
किसी ने क्या खूब कहा है ,
सिर्फ गुलाब देने से अगर मोहब्बत हो जाती ,
तो माली सारे शहर का महबूब बन जाता ।
Gulab shayari in Hindi 2021
Gulab shayari in Hindi 2021

Leave a Comment